नक्शबंदी हक्कानी रब्बानी पोर्टल में आपका स्वागत है!

This post is also available in: Dutch, English, French, German, Italian, Japanese, Russian, Spanish, Arabic, Indonesian, Bosnian, Creole (Pidgin English), Croatian, Czech, Malay, Portuguese (Brazil), Serbian, Tagalog, Tamil, Bahasa Sug, Turkish, Urdu, Vietnamese

हम अपने परवरदिगार/ अल्लाह से अभिशप्त शैतान के छल-कपट और जाल के विरूद्ध सुरक्षा प्राप्त करने से शुरू करते हैं, क्योंकि शैतान एक ऐसा प्राणी है, जिसके अस्तित्व का एकमात्र उद्देश्य मनुष्य को पूर्ण रूप से सांसारिक नरक में खीचने को समर्पित है.

और हम सतत रूप से आशीर्वाद युक्त स्त्रोत का पाठ करते रहते है, बिस्मिल्लाहिर रह्मंनिर रहीम, सर्वशक्तिमान अल्लाह के नाम पर जो सबसे दयालु है, सबसे अधिक करूणापूरित है. उस करूणा के सागर ने सय्यिदिना मुहम्मद को मानवजाति के लिए अपने दया के रूप में भेजा है. हम अपने प्यारे पैगम्बर, हबीबुल्लाह, जो परवरदिगार का प्यारा है, को प्यार व दुआ- सलाम करते है, और उन पर विश्वास करते है.

आपका चेहरा रौसनी से चमकने लगे और आपका दिल पाक बन जाये, ओ खुदा के नेक बंदे.

आप इस पोर्टल पर अकारण नहीं आये है. इस ब्रह्माण्ड में बिना कारण के कुछ भी नहीं होता है. कोई भी घटना बिना बुद्धिमानी- जो उसके अंदर छिपी होती है, के घटित नहीं होती है. यहाँ तक कि छोटी से छोटी घटना के पीछे कोई कारण अवश्य होता है. यहाँ तक की विनम्र जोंक की रचना भी मनुष्य को इतना लाभ प्रदान करती है.

आप इस पोर्टल पर तशरीफ लाए है, क्योंकि यह लिखा गया है कि आप इस पोर्टल के द्वारा निर्देशित किये जायेंगे. वादे के दिन से,  इसे दैवीय ढंग से ठहराया गया है, आपको सांसारिक दायरे में भेजने से बहुत पहले से ही, उस खुदा ने यह निश्चित कर दिया था कि आप उसके हाथों द्वारा उस द्वार की ओर दिशा-निर्देशित किये जायेंगे, जो शाश्वत जन्नत की ओर जाता है.

यहाँ आप में से प्रत्येक एक अलग यात्रा के लिए आये है, ‘क्योंकि अल्लाह के मार्ग मनुष्यों द्वारा लिए गए सांसों की संख्या से कही अधिक  है’, और अब आप स्वयं की खोज और आत्म बोध की दहलीज पर खड़े हैं.

इस बिंदु पर, आप में से कुछ बंदे कुछ क्षणों तक यहाँ रूकेंगे और, अन्तोगत्वा आप चले जायेंगे. फलतः आपको इसके मधु का जरा भी लज्जत प्राप्त नहीं होगा, व आप इसके मदहोश करनेवाली ज्ञान की धारा का आस्वादन भी नहीं कर पायेंगे. इस तरह के दुर्भाग्यपूर्ण कृत्य पर भी हम आपके लिए मंगलकामना करते है- क्योंकि किसी भी धर्म में यह बाध्यता नहीं हैं कि आपने जो बोया है, उसी के साथ आपको दफनाया जाये. जैसा कि फरिश्ते जिब्रायल (के रूप में) ने रसूलुल्लाह (ने देखा) से कहा था, “हे मुहम्मद, इस दुनिया में आप जो चाहते है वह करे, परन्तु याद रखे, आप अपने कृत्यों के लिय खुद जिम्मेदार होंगे. और इस संसार में आप ऐसे कार्य करे जिससे इस जहां के लोग खुश हो जाये, परन्तु हे मुहम्मद, याद रखो, एक दिन तुम्हे भी मृत्यु का स्वाद चखना होगा.” और उसे प्रेम करे जो आपके जीवन को आनन्दायक बनाता है, परन्तु याद रखे मृत्यु के समय आपको अपने प्रियजनों से भी जुदा होना होगा. इसलिए ओ खुदा के नेक बंदे, आप अपनी इच्छानुसार आने –जाने के लिए स्वतंत्र है.

लेकिन कुछ ऐसे भी होंगे, जो अपना अंगूठा आमंत्रित कर रही इन धाराओं के जल में डूबाएंगे, और तब वे अबोध्य रूप से गहरे जल में उतरते चले जायेंगे, आप खुद को बिना किसी भय या प्रतिरोध के उग्र धारा में डाल देंगे, जिससे आपको अवश्य ही पार कर बाहर निकलना है. इस प्रक्रिया में आपका संघर्ष आपके अहम और इच्छाओं से होगा, जो आपको इस कठिन यात्रा पर जाने से रोकने का प्रयास करेंगे. और आखिकार जब नदी सागर से मिलती है, लहरे कम हो जाती है, चारों ओर शांति छा जाती है, और निर्मल – शुद्ध जल के मिलन में, जल की वह बूँद जो कभी आप थे, का कोई अस्तित्व नहीं होता है. नदी का भी कोई अस्तित्व शेष नहीं रहता है, केवल विशाल और अनंत तक फैले हुए महासागर का साम्राज्य ही दिखाई देता है. उनके खुशनसीबों हम कहते हैं. “सभी प्रशंसा अल्लाह के लिए है, जिसने अपनी असीम रहमत से भटके हुए को रास्ता दिखाया है”, शाश्वत शांति की घाटी में आपका स्वागत है.

ओ खुदा के नेक बंदे, तुम्हे अपने बारे में अवश्य जानना व सीखना चाहिए कि अभी आप कहाँ है, और आपकी मंजिल क्या है? आपको इसके लिए केवल एक ही मौका मिला है, हे बंदे, एक बार जब आपका जीवन इस जहां से गुजर जायेगा तो आपको पुन: इस रास्ते से कभी नहीं गुजरना पड़ेगा.

यह यात्रा आनन्दायक है, मंजिल अवर्णीय है, कोई कैसे शहद के स्वाद की, एक दुलार की अनुभूति की या प्यार की धडकन की व्याख्या कर सकता है?

ओ खुदा के नेक बंदे, इस साईट पर उपलब्ध ज्ञान के खजाने से ज्ञान प्राप्त करने के लिए आपका स्वागत है. जो कि हमारे प्यारे मालिक मौलाना शेख़ मुहम्मद नाजिम अल – हक्कानी अल – आदिल अल किब्रिसी, जो नक्शबंदी तरिकात क्रम के 40वें महान शेख है. ये शिक्षायें प्रेम में उफनती हुई दिल से निकली है, जो अहम से रहित है, और पूरी तरह से स्वयं को एक अनूठी शक्ति के हवाले कर रही है.

मौलाना से स्वयं आपको नहीं बुलाया है, और ना ही आपको इस तरीकत (मार्ग) पर चलने के लिए कहा है. वे आपको अपने साथ सुमधुर स्वाद की यात्रा, प्रेम की यात्रा शुरू करने के लिए आमंत्रित करते है.

आइये, उनका हाथ थामे, प्रेम का स्वाद चखे. उनके आमंत्रण को स्वीकार करे.

नीचे की कड़ियाँ आपके यात्रा को सफल बनाने में आपका मार्गदर्शन करेंगी.

शेख नजीम कौन है?

सुह्बह क्या हैं?

यह साईट आपकी मदद कैसे कर सकता हैं?

इस साईट का उपयोग कैसे करे?

मौलाना शेख नाजिम के सुह्बह्स में गोता लगाये.

आइये, आपकी यात्रा की शुरूआत करे!

यदि आप भटक जाते है या आपको किसी प्रकार की सहायता की जरूरत हैं, तो हमें admin@SufiHub.com पर ई – मेल करे या ट्वीटर (SufiHub), फेसबुक (SufiHub) पर हमारा अनुसरण करे, या  Skype (SufiHub) पर चैट करे. आप हमें इस टेलीफोन नंबर + 65 8200 9955 पर शब्द सन्देश भी भेज सकते है.

हम ऐसे स्वयंसेवकों की तलाश हैं जो इस साईट का अधिक से अधिक भाषाओँ में अनुवाद कर सके. यदि आप स्वेच्छा से सहयोग करना चाहते है तो कृपया संपर्क करे! धन्यवाद, अल्लाह आपको आगे बढ़ने में मदद करे.